GS Center

For Knowledegable Content

07 December 2021

Important Books for IAS Prelims and Mains | UPSC IAS Booklist | Booklist of upsc prelims and mains

 Hello dear aspirants,


Here we'll discuss about the Booklist of UPSC Prelims and mains. By this booklist you can crack upsc exam easily. These concise booklist is recommended by UPSC Toppers. If you consistently stick with these upsc books you will feel better and better. 

Ias booklist


Best books for UPSC prelims and mains : 


UPSC IAS Exam is the most prestigious exam of India. Therefore lacs of students attempt for this exam and want to become an IAS Officer. But here is important to know that no one can win any battle without good weapons and well planned strategy. So here we will understand the booklist OF UPSC exam. And for Best upsc strategy you can read that article are linked. 


Let's see the- 

Booklist of Upsc pre and mains― 


Basic level books for beginners :


NCERT books for class 10, 11th and 12th for history ( old ncert), geography, economics and political science.


◆ For Science and technology , read class 9th, 10th ncert, for environment and Ecology section ncert  class 12th . 


◆ Read daily news paper The Hindu or Indian express,  30-35 minutes paper reading is sufficient. 


◆Read magazine like yojana or kurukshetra

◆ Read economic survey


UPSC Prelims Booklist :  


Advance level :- General Studies Paper I


1. General Studies for Civil Services Preliminary Examination, Paper-I by Mc Graw Hill 


2. General Studies Manual Paper-1  by Manohar Pandey


3. General Studies Paper I  for Civil Services Preliminary Examination by Majid Husain


4. General Knowledge Lucent's (for Revision only.)


Booklist of Indian History :


1. Concise History of Modern India for Civil Services Examination by Sujata Menon


2. India's Ancient Past by R.S.Sharma


3. India's Struggle for Independence by Bipan Chandra


4. A New Look at Modern Indian History: Form 1707 To The Modern Times by B.L. Grover, Alka Mehta


5. A Brief History Of Modern India By Spectrum Publication


6. History of Medieval India by Bipan Chandra


7. Indian History by TMH

Modern India by Sumit Sarkar


IAS Booklist of Indian Geography:


1. Indian and World Geography by Majid Husain ,TMH Publishing


2. Certificate Physical and Human Geography by Goh Cheng Leong


3. Indian and World Geography: Objective Questions with Explanatory Notes for Civil Services Preliminary Examination by Khullar Access Publishing


4. Geography of India by Majid Husain


5. Oxford School Atlas


Booklist of Indian Polity:


1. Indian Polity by M. Laxmikanth


2. Introduction to the Constitution of India by D.D.Basu / Subhash kashyap


3. Magbook Indian Polity & Governance by Arihant Publication


4. Indian Polity, Governance and National Movement for Civil Services Preliminary Examination - Paper 1 by N D Arora, Access Publishing


UPSC Booklist of Indian Economy:


1. Indian Economy Book by Ramesh Singh


2. The Indian Economy Book by Sanjiv Verma


3. Indian Economy: Performance and Policies:  by Uma Kapila


Best booklist of Environment:


1. Environment and Ecology: Biodiversity, Climate Change and Disaster Management for Civil Services Examination Book by Majid Husain


2. Environmental Studies: From Crisis to Cure Book by R. Rajagopalan


UPSC Books of General Studies Paper II :


1. General Studies Paper 2  Book by TMH


2. General Studies Paper-2  for Civil Services Preliminary Examination by N D Arora, Access Publishing


3. CSAT - Solved Papers (General Studies Paper II) for Civil Services Preliminary Examination

General Studies - Paper II Book By Pearson Publishing


3. CSAT Paper - 2 by Arihant


■ Books for UPSC Mains:


1. IAS Mains General Studies Paper 1 INDIAN HERITAGE & CULTURE HISTORY & GEOGRAPHY OF THE WORLD & SOCIETY (Reference Manual GS-1)


2. History of Modern World (History GS-1)


3. Social Problems In India (Indian Society GS-1)


4. India After Gandhi: The History of the World’s Largest Democracy (World History GS-1)


1. IAS Mains General Studies Paper 2 GOVERNANCE CONSTITUTION, POLITY SOCIAL JUSTICE & INTERNATIONAL RELATIONS (Reference Manual GS-2)


2. Governance for Growth in India (Governance GS-2)


3. Pax Indica: India and the World of the 21st Century (Foreign Policy GS-2)


4. India and the World: Through the Eyes of Indian Diplomats (Foreign Policy GS-2)


1. IAS Mains General Studies Paper 3 TECHNOLOGY ECONOMIC DEVELOPMENT BIODIVERSITY ENVIRONMENT, SECURITY & DISASTER MANAGEMENT(Reference Manual GS-3)


2. India’s National Security: A Reader (Critical Issues in Indian Politics) (National Security GS-3)


3. Internal Security & Disaster Management GS Paper 3 (Internal Security GS-3)


1. IAS Mains General Studies Paper 4 ETHICS INTEGRITY & APTITUDE (Reference Manual GS-4)

1. Contemporary Essays for Civil Services Examination (Essay)


2. 151 Essays (Essay)


3. Lexicon for ethics, Integrity and aptitude dictionary by Chronicle


Books for Interview:


1. Interviews The Last Basic Tips On facing Civil Services Personality Test (Interview Basics)


2. What…? When…? How…? Answers to All Questions About Civil Services (Interview) (Interview Questions)


3. CIVIL SERVICES INTERVIEW: HOW TO EXCEL (How to face Interview)


However you can start and give run of your preparation by these books. The main point should be in your preparation that is 'minimum sources and maximum learning'. In this article you found minimum sources of UPSC exam and by hearting these books and consistently preparation you can achieve your Aim of becoming IAS officer. 


Related articles : 👇



Thank you 🙏


If you feel this article useful for Upsc or civil service aspirants , please share with those. 


Tags : 


UPSC IAS BOOKS , UPSC ias booklist , booklist of upsc ias , ias books , upsc prelims and maina booklist , important books for upsc , best booklist of upsc prelims , best books of upsc , upsc exam booklist . 

06 December 2021

Best Hacks to Crack UPSC IAS Exam in one attempt

UPSC Civil Services Exam is one of the toughest examinations among all the competitive exams in the country. Only the candidates who fulfill all the factors associated with the UPSC IAS Eligibility Criteria and submit the application form are allowed to appear for the exam. The UPSC IAS comprises three stages i.e Prelims, Mains, and Interview rounds. Lakhs of candidates appear for the exam every year, but only a few of them are finally appointed for the post. One of the main reasons behind the failure of the candidates is their weak preparation technique and wrong selection of books. The Civil Services exam demands a different preparation strategy due to the high-level competition faced by candidates. If they start the preparation early, then that would benefit them in many ways. Thus, candidates should focus on the right preparation and strategy to achieve success in the exam. With the idea of helping the candidates in the right direction, we have shared below the best hacks to crack UPSC IAS Exam in one attempt.

Best hack to crack upsc ias

Strengthen the Foundation


Candidates should first understand the basic concepts behind the theory of each and every topic during the preparation. They should read NCERTs books as they can be excellent sources of information for beginners. NCERTs books are available both in offline stores and official websites. Once you gain conceptual clarity, then you can refer to the standard books of every subject for the high-level preparation for the exam. Also, candidates can learn fundamentals by enrolling in the best UPSC IAS GS 2023 Coaching in English to ensure favorable results.


Go through Previous Year Papers


In order to get actual insight into the exam, the candidates are advised to analyze the previous year’s question papers of the UPSC IAS exam. This will give them an idea of the topics that carry more marks and are frequently asked in the exam. By solving UPSC Civil Services Previous Year Question Papers, the candidates will get an idea of the current level of their preparation.


Maintain Well Structured Notes


Handwritten Notes will play a pivotal role in your struggle to pass the UPSC IAS Exam with flying colors. Candidates should prepare well-structured notes of every topic for quick revisions at the last moment. Take the reference of reliable sources while preparing the short notes of the important concepts. Since the IAS syllabus is vast, revising from the short notes would be less time-consuming for the candidates.


Attempt Mock Test Series


Candidates should attempt as many mock tests as possible in the last three months of their UPSC IAS Preparation. They should take regular mock tests of the prelims and mains to achieve the best marks in the exam. It will be beneficial in three ways i.e firstly, candidates will be able to identify their weak areas and focus more on improving them, secondly, they will be able to enhance their speed and accuracy for the actual exam, and last but not the least, they will be able to improve their time management skills. Practicing more and more questions will increase your qualifying chances and boost confidence.


Revision for favorable results


It is not possible to retain every important information of a topic by studying it only once. Without the regular revisions, all the efforts will be wasted. Revise all the covered topics twice a week to retain all the important information for a longer period. Candidates should remember that only completing the syllabus on time is not sufficient to achieve the desired result in the exam. They should prepare strategies, practice, conduct regular revision, and stay confident for the exam.



05 December 2021

महापाषाण काल | Megalithic period | ताम्रपाषाण काल | Chalcolithic period | सिंधु घाटी सभ्यता | Indus Valley civilization

 महापाषाण काल (megalithic age) 


नवपाषाण काल (Neolithic age) के बाद दक्षिण भारत में महापाषाण संस्कृति (Megalithic culture) का विकास हुआ। पत्थर की बड़ी-बड़ी कब्रों को महापाषाण कहा जाता था। इनमें मानवों को दफनाया जाता था।


◆ इस काल में लोग सामान्य तौर पर पहाड़ों की ढलान पर रहते थे। यह प्रथा दक्कन, उत्तर-पूर्वी भारत एवं कश्मीर के क्षेत्र में प्रचलित थी। यहाँ पर मिली कब्रों में लोहे के औजार, घोड़े के कंकाल तथा पत्थर के गहने भी मिले हैं।


◆ इस काल में आंशिक शवाधान की पद्धति भी प्रचलित थी जिसके तहत शवों को जंगली जानवरों के खाने के लिए छोड़ दिया जाता था। ब्रह्मगिरि, आदिचन्नलूर, मास्की, चिंगलपत्तु, नागार्जुनकोंडा आदि इसके प्रमुख शवाधान केन्द्र थे।


◆ इस काल के लोग धान के साथ-साथ रागी की भी खेती करते थे। इतिहासकारों द्वारा महापाषाण काल का निर्धारण 1000 ई. पू. से लेकर प्रथम शताब्दी ई.पू. के बीच किया है।

महापाषाण काल | ताम्रपाषाण काल | हड़प्पा सभ्यता


आद्य ऐतिहासिक काल : Proto historical age 


पाषाण काल (Stone age) की समाप्ति के बाद धातु युग का प्रारंभ हुआ। इसे ही आद्य ऐतिहासिक काल कहते हैं। ताम्रापाषाण काल, हड़प्पा संस्कृति (Harappan culture) , वैदिक संस्कृति (Vedic culture) को इसी के अंतर्गत शामिल किया जाता है।


गैरिक तथा लाल-काले मृदभाण्ड भी इसी काल से संबंधित हैं।


ताम्रपाषाण काल : Chalcolithic age 


◆ धातुओं में सबसे पहले ताँबे का प्रयोग हुआ। जिसका प्रयोग मानव ने लगभग 5000 ई. पू. में किया।


◆ इस काल में पत्थर एवं तांबे के उपकरणों का प्रयोग साथ-साथ किया जाता था। इसी कारण इसे ताम्रपाषाण काल संस्कृति या कैल्कोलिथिक कल्चर (Chalcolithic culture) कहा जाता है।


ताम्रपाषाणिक संस्कृतियाँ कृषक ग्रामीण संस्कृतियाँ थीं। जो भारत में दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी मध्य प्रदेश, पश्चिमी महाराष्ट्र तथा दक्षिण-पूर्वी भारत में पाई गई हैं।


अहाड़ - बनास संस्कृति : Ahar - Banas culture


◆ दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में अहाड़, बालाथल और गिलुंद में ताम्रपाषाणिक स्थल प्राप्त हुए हैं।


◆ ये पुरास्थल बनास घाटी में स्थित हैं। इसीलिए इसे बनास संस्कृति भी कहते हैं। 


◆ अहाड़ का प्राचीन नाम तांबवती था क्योंकि यहाँ बड़े पैमाने पर तांबा मिलता था। इसका कालक्रम 2100 से 1500 ई.पू. के बीच निर्धारित किया जाता है। यहाँ के लोग पत्थर के बने घरों में रहते थे।


अहाड़ के पास गिलुंद में मिट्टी की इमारत बनी है जिसमें कहीं-कहीं पक्की ईंटें लगी हुई हैं।


◆ यहाँ से तांबे की बनी कुल्हाड़ियाँ, चूड़ियाँ आदि प्राप्त हुई हैं।


◆ इसके अलावा, अहाड़ संस्कृति अन्य ताम्रपाषाणिक संस्कृतियों से अलग है क्योंकि दूसरे केन्द्रों पर लाल व काले मृदभांड मिले हैं, जबकि यहाँ इन मृदभाण्डों पर सफेद रंग से चित्रकारी की गई है।


कायथा एवं मालवा संस्कृति : Kayatha and Malva culture 


◆ पश्चिमी मध्य प्रदेश में मालवा कायथा, एरण तथा नवदाटोली प्रमुख ताम्रपाषाणिक स्थल प्राप्त हुए हैं।


◆ नवदाटोली मध्य प्रदेश का एक महत्वपूर्ण ताम्रपाषाणिक स्थल है। यहाँ मिट्टी, बांस एवं फूस के बने चौकोर एवं वृत्ताकार घर मिले हैं, साथ ही लाल-काले मृदभाण्ड भी मिले हैं जिन पर ज्यामितीय आकृतियाँ बनी हैं।


कायथा संस्कृति के मृदभांडों पर प्राक्-हड़प्पन, हड़प्पन और उत्तर हड़प्पन संस्कृति का प्रभाव दिखाई देता है। यहाँ स्टेटाइट एवं कार्नेलियन जैसे कीमती पत्थरों के हार प्राप्त हुए हैं। 


◆ इसी क्षेत्र में मालवा संस्कृति का भी विकास हुआ जो अपने मृदभाण्डों की उत्कृष्टता के लिए जानी जाती है। 


◆ मध्य प्रदेश में कायथा, एरण तथा पश्चिमी महाराष्ट्र में इनामगांव की बस्तियाँ किलेबंद हैं।


जोर्वे संस्कृति : Jorve culture 


◆ पश्चिमी महाराष्ट्र के प्रमुख ताम्रपाषाणिक स्थल अहमदनगर जिले में जोर्वे, नेवासा और दैमाबाद तथा पुणे जिले में चंदोली, सोनगांव, इनामगांव, प्रकाश तथा नासिक आदि हैं। इस सामूहिक क्षेत्र को जोर्वे संस्कृति नाम दिया गया।


नेवासा से पटसन का साक्ष्य प्राप्त हुआ है।


◆ दैमाबाद से भारी मात्रा में काँसे की वस्तुएँ मिली हैं जो हड़प्पा सभ्यता का प्रभाव दिखलाती हैं। साथ ही यहाँ से गैंडा, हाथी, भैंस तथा रथ चलाते मनुष्य की आकृति मिली है।


◆ आरंभिक ताम्रपाषाणिक स्थल इनामगाँव से चूल्हों सहित बड़े-बड़े कच्ची मिट्टी के मकान एवं गोलाकार गड्ढों वाले मकान मिले हैं। यह स्थल किलाबंद एवं खाई से घिरा हुआ था। यहाँ शिल्पी लोग पश्चिमी हिस्से में रहते थे जबकि सरदार प्रायः केन्द्र स्थल में रहता था।


पूर्वी भारत के ताम्रपाषाणिक स्थल :


◆ पूर्वी भारत में गंगा के किनारे चिरांद, पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में महिषदल प्रमुख ताम्रपाषाणिक स्थल हैं। इसके अलावा बिहार में सेनुआर, सोनपुर और ताराडीह तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश में में खैराडीह एवं नरहन अन्य ताम्रपाषाणिक स्थल हैं।


1200 ई.पू. के आस-पास ताम्रपाषाणिक संस्कृति का लोप हो गया, केवल जोर्वे संस्कृति 700 ई. पू. तक अस्तित्व में रही। इनके विलुप्त होने का प्रमुख कारण अत्यंत कम वर्षा एवं सूखा था।


सिंधु घाटी सभ्यता (Indus valley civilization) : 


सिंधु घाटी सभ्यता या हड़प्पा सभ्यता उन अनेकों ताम्रपाषाणिक संस्कृतियों से पुरानी है जिनका वर्णन अभी हाल ही में किया गया। लेकिन यह उन संस्कृतियों से कहीं अधिक विकसित थी।


◆ इस संस्कृति का विकास ताम्रपाषाण काल में भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में हुआ।


◆ इसका नाम हड़प्पा सभ्यता पड़ा क्योंकि सबसे पहले 1921 में पाकिस्तान में हड़प्पा नामक स्थल की खुदाई की गई।


यह एक कांस्ययुगीन सभ्यता थी क्योंकि इस सभ्यता के लोगों ने तांबा और टिन को मिलाकर कांसा बनाने की तकनीक विकसित कर ली थी।


सिंधु घाटी सभ्यता का भौगोलिक विस्तार उत्तर में मांडा (जम्मू-कश्मीर) से लेकर दक्षिण में दैमाबाद (महाराष्ट्र) तक तथा पश्चिम में सुत्कांगेंडोर से लेकर पूर्व में आलमगीरपुर (मेरठ) तक था।


◆ यह सभ्यता त्रिभुजाकार स्वरूप में थी। इसका सबसे पहले पता 1826 में चार्ल्स मैसन ने लगाया। उसके बाद 1921 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अध्यक्ष सर जॉन मार्शल के नेतृत्व में दयाराम साहनी ने हड़प्पा नामक नगर का पता लगाया।


◆ आगे 1922 में राखलदास बनर्जी ने हड़प्पा सभ्यता के दूसरे महत्वपूर्ण स्थल मोहनजोदड़ो का पता लगाया।


रेडियो कार्बन C14 जैसी नवीन पद्धति के माध्यम से हड़प्पा सभ्यता का काल खण्ड 2400 ईसा पूर्व से 1700 ईसा पूर्व के बीच निर्धारित किया गया।


हड़प्पा सभ्यता की उत्पत्ति के संबंध में विभिन्न विद्वानों में मतभेद है। कुछ विद्वान इसे मेसोपोटामिया के प्रभाव से उत्पन्न मानते हैं जिनमें मार्टीमर, व्हीलर, गॉर्डन चाइल्ड, लियोनार्ड बूली, डी.डी. कोशांबी एवं क्रेमर आदि शामिल हैं।


फेयर सर्विस एवं रोमिला थापर जैसे विद्वान इसे ईरानी बलूची ग्रामीण संस्कृति से उत्पन्न सभ्यता मानते हैं।


◆ तीसरी विचारधारा देशी प्रभाव या सोथी संस्कृति से इसके विकास की है जिसके प्रवर्तक अमलानंद घोष, धर्मपाल अग्रवाल और ब्रिजेट ऑलचिन आदि हैं।


इस प्रकार भारतीय इतिहास की पहली नगरीय सभ्यता की शुरुआत हुई। इसके विषय में आगे की अधिक जानकारियां अगले लेखों में दी गयी हैं। 


धन्यवाद🙏 
आकाश प्रजापति
(कृष्णा) 
ग्राम व पोस्ट किलहनापुर, कुण्डा प्रतापगढ़ , उ०प्र० 
छात्र:  प्राचीन इतिहास कला संस्कृति व पुरातत्व विभाग, कलास्नातक तृतीय वर्ष, इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय


Tag:


महापाषाण काल , महापाषाण संस्कृति , ताम्र पाषाण काल , ताम्रपाषाणिक संस्कृति , हड़प्पा सभ्यता , सिंधु घाटी सभ्यता , हडप्पा संस्कृति , Megalithic age , Megalithic culture , Chalcolithic culture , chalcolithic period , Harappan civilization , harappan culture . 

पुरातात्विक उत्खनन कैसे होता है | उत्खनन की 2 विधियां | 2 methods of archaeological excavation in hindi

 भौतिक अवशेषों द्वारा अतीत के अध्ययन को पुरातत्व कहते हैं। पुरातत्व अंग्रेजी भाषा में Archaeology कहा जाता है। यह यूनानी भाषा के दो शब्दों Archaois तथा logos शब्दों से मिलकर बना है। जिसमे archaois का अर्थ है 'पुरातन' तथा logos का अर्थ है 'ज्ञान' , इस प्रकार इसका शाब्दिक अर्थ है 'पुरातन ज्ञान'। 

पुरातत्व वह विज्ञान है जिसके माध्यम से पृथ्वी के गर्भ में छिपी हुई सामग्रियों की खुदाई कर प्राचीन काल के लोगों के भौतिक जीवन का ज्ञान प्राप्त किया जाता है। 


आज हम इस लेख के माध्यम से पुरातात्विक उत्खनन की विधियों के बारे में समझने का प्रयास करेंगे। 

पुरातात्विक उत्खनन की 2 विधियां


पुरातात्विक उत्खनन की विधियां : 


पुरातत्व में उत्खनन का विशेष महत्व है क्योंकि इसी के माध्यम से भूगर्भ में छिपी हुई पुरा-वस्तुओं को प्रकाश में लाया जाता है। बीसवीं शती के पूर्व तक उत्खनन का कार्य अव्यवस्थित ढंग से किया जाता था। इसके प्रारम्भिक स्तर पर निर्धारित क्षेत्र में दूर-दूर तक गड्ढे खोदे जाते थे और यदि किसी भवन अथवा दीवार का कोई अंश मिल जाता था, तो उसके ज्ञान के लिये इन्हें मिला दिया जाता था। किन्तु कालान्तर में वैज्ञानिक तकनीक विकसित होने के फलस्वरूप व्यवस्थित ढंग से उत्खनन कार्य प्रारम्भ किया गया। सम्प्रति उत्खनन की दो प्रमुख विधियां व्यवहार में लाई जाती है


1. लम्बवत् उत्खनन (Vertical Excavation) 

2. क्षैतिज उत्खनन (Horizontal Excavation)


उत्खनन की 2 विधियां (2 methods of excavation) :


इनका विवरण इस प्रकार है- 


1. लम्बवत उत्खनन : (Vertical Excavation) 


जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, इसमें किसी स्थान की लम्बा-लम्बी खुदाई की जाती है। यह खुदाई तब तक चलती रहती है जब तक कि प्राकृतिक मिट्टी (Natural Soil) न मिल जाये। इसमें ऊपर से नीचे खोदा जाता है। यह सामान्यतः स्थल के कुछ भाग तक ही सीमित होती है। इसके द्वारा सम्पूर्ण सभ्यता का प्रत्यक्षीकरण नहीं हो सकता अपितु हम विभिन्न संस्कृतियों के कालक्रम का ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। 


दूसरे शब्दों में इससे यह जानकारी मिलती है कि सम्बन्धित स्थल कितने समय तक तथा किन व्यक्तियों द्वारा विकसित किया गया। इसी कारण ह्वीलर ने इस विधि को 'काल मापन अथवा संस्कृति मापन' (Time Scale or Culture Scale) की संज्ञा प्रदान की है।  


लम्बवत उत्खनन का महत्व : 


     इस उत्खनन के द्वारा यह जाना जा सकता है कि उस क्षेत्र में किस संस्कृति के लोग कब आये तथा उनका विनाश कब हुआ। यह विधि विभिन्न संस्कृतियों के पूर्वापर क्रम तथा पारस्परिक सम्बन्ध ज्ञात करने में भी सहायता करती है। चूँकि यह उत्खनन एक सीमित क्षेत्र में ही किया जाता है, अतः इसके माध्यम से किसी संस्कृति अथवा सभ्यता का सम्पूर्ण चित्र हमारे सम्मुख उपस्थित नहीं हो पाता है। इससे किसी संस्कृति के राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक आदि पक्षों के विषय में कोई जानकारी नहीं मिलती जो मानव के विस्तृत इतिहास लेखन के लिये आवश्यक है। 


अतः लम्बवत् उत्खनन किसी संस्कृति के कालक्रम एवं स्तरीकरण के ही ज्ञान में सहायक हो सकता है। ह्वीलर के शब्दों में ―

"By vertical excavation is meant the excavation of a restricted area in depth with a view to ascertaining the succession of cultures or of phases and so producing a time scale or culture scale for the site."


 इस प्रकार यह उत्खनन की एक अपूर्ण पद्धति है।


क्षैतिज उत्खनन : (Horizontal Excavation)


इससे तात्पर्य है समस्त टीले अथवा उसके बृहत भाग की खुदाई करना। इसमें खुदाई लम्बवत् न होकर विस्तार में की जाती है। इस तरह की खुदाई से हम सम्बन्धित स्थल की काल विशेष की संस्कृति का पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने के साथ ही सम्बन्धित सभ्यता के अप्रत्यक्ष अवशेष भी प्राप्त कर सकते हैं। इससे यह उद्घाटित होता है कि सभ्यता को विकसित करने में किसी स्थान विशेष का क्या योगदान रहा। किसी सभ्यता के सम्यक् स्वरूप का निरूपण क्षैतिज उत्खनन के माध्यम से ही होता है।

 ह्वीलर के अनुसार क्षैतिज उत्खनन से तात्पर्य किसी संस्कृति का सर्वांगीण परिचय प्राप्त करने के लिये किसी पुरास्थल के काल विशेष से सम्बन्धित सम्पूर्ण अथवा उसके विस्तृत भाग की खुदाई करना है - "By horizontal excavation is meant the uncovering of the whole or large part of specific phase in the occupation of an ancient site in order to reveal fully its layout and function." 


क्षैतिज उत्खनन की आवश्यकता व प्रयोग : 


इस प्रकार क्षैतिज उत्खनन किसी स्थान विशेष की सम्पूर्ण संस्कृति के ज्ञान के लिये आवश्यक है। इस विधि का प्रयोग सर जॉन मार्शल ने 1944-45 ई० में तक्षशिला के सिरकप के टीले पर करके पार्थियन युग की संस्कृति का चित्रण प्रस्तुत किया था। इसी प्रकार मोहेनजोदड़ो के क्षैतिज उत्खनन से वहाँ के भवनों, सड़कों, गलियों, नालियों, दुर्ग, नगर विन्यास आदि का विस्तृत ज्ञान प्राप्त हुआ लेकिन लम्बवत् उत्खनन के अभाव में उनके विकास क्रम की कोई जानकारी नहीं हो पाई। 

क्षैतिज उत्खनन व्यय साध्य होने के कारण बहुत कम किया गया है। फलस्वरूप उत्खननों से प्राचीन भारतीय इतिहास के अनेक अवस्थाओं के भौतिक जीवन का पूर्ण और समग्र चित्र हमारे सामने प्रस्तुत नहीं हो पाता।


क्षैतिज उत्खनन का महत्व : 


पुराविद् उत्खनन की उपर्युक्त दोनों विधियों को एक दूसरे की पूरक मानते हैं। किसी भी स्थान पर दोनों का प्रयोग अलग-अलग नहीं किया जा सकता। अतः उत्खनित क्षेत्र की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिये लम्बवत् तथा क्षैतिज दोनों का प्रयोग आवश्यक है। लम्बवत् उत्खनन द्वारा किसी क्षेत्र की प्राचीनता, उसके निवासियों के स्वरूप तथा उनके उत्थान-पतन की जानकारी मिल जाती है। तत्पश्चात् क्षैतिज विधि से उत्खनन करके उस स्थल की सभ्यता या संस्कृति का पूर्ण ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। 

   

    इस प्रकार किसी स्थल का क्षैतिज करने के पहले लम्बवत् उत्खनन द्वारा उसके स्तर विन्यास का विधिवत अध्ययन कर लेना अभीष्ट है। अन्यथा सभ्यता का निर्धारण ठीक ढंग से नहीं किया जा सकता। वस्तुतः इन दोनों विधियों से प्राप्त जानकारी से ही हम किसी काल के इतिहास एवं उसकी संस्कृति का पुनर्निमाण कर सकते हैं। 

        ह्वीलर ने लम्बवत् उत्खनन को क्षैतिज उत्खनन का पूर्वगामी माना है। दोनों के पारस्परिक सम्बन्ध के विषय में उनका कहना है कि लम्बवत् उत्खनन गाड़ी के बिना ही रेल समय-सारिणी है जबकि क्षैतिज उत्खनन समय-सारिणी के बिना ही रेलगाड़ी है।' (Vertical digging is railway time-table without train and the horizontal digging is railway train without time-table.)


जिस प्रकार समय-सारिणी से क्रमश: एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन की जानकारी तो हो जाती है लेकिन संस्कृति रूपी गाड़ी के स्वरूप का ज्ञान नहीं हो पाता। इसी प्रकार क्षैतिज उत्खनन बिना समय-सारिणी के रेलगाड़ी की भाँति है जिसके विषय में यह ज्ञात नहीं हो पाता कि कब छूटी, किन-किन स्टेशनों पर रुकी तथा कहाँ पहुँची। इसी प्रकार क्षैतिज उत्खनन से किसी सभ्यता के विस्तार क्रम का ज्ञान नहीं हो सकता।


 अस्तु उत्खनन की दोनों विधियों का प्रयोग करके ही हम सभ्यता के सम्पूर्ण स्वरूप का ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। यह आवश्यक है कि पहले किसी पुरास्थल का लम्बवत् उत्खनन कर उसकी संस्कृतियों का क्रम निर्धारित किया जाय तथा फिर विभिन्न संस्कृतियों अथवा किसी संस्कृति विशेष के पुरास्थल का क्षैतिज उत्खनन करवाया जाय। तभी संस्कृति अथवा सभ्यता के कालानुक्रमिक विकास एवं सम्पूर्ण स्वरूप का ज्ञान प्राप्त हो सकता है। किसी भी पद्धति के अभाव में संबंधित संस्कृति विषयक सम्पूर्ण पक्ष उजागर नहीं हो सकता।


निष्कर्ष : 


इस प्रकार हम देखते हैं कि किसी भी पुरास्थल की खोज के बाद उसका उत्खनन करने के लिए उपरोक्त दोनों विधियों का प्रयोग किया जाता है। उक्त दोनों विधियों के उपयुक्त प्रयोग से इतिहास की अधिक से अधिक जानकारियां प्रमाणित अवस्था मे मिलती हैं साथ ही इतिहास में पुरातत्त्व का योगदान दिन प्रतिदिन बढ़ता है।


इस प्रकार हमने आज पुरातात्विक उत्खनन की 2 विधियां के बारे में जाना। यह जानकारी आपको उपयोगी लगी हो और पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। 


पुरातत्व से संबंधित पोस्ट्स 

● पुरातत्व किसे कहते हैं? तथा पुरातत्व का विज्ञान और मानविकी के विषयों से संबंध।

● पुरातत्व की 32 परिभाषाएं।

● पुरातत्व को परिभाषित कीजिए तथा उसका सामाजिक विज्ञानों से संबंध बताइए।


धन्यवाद🙏 
आकाश प्रजापति
(कृष्णा) 
ग्राम व पोस्ट किलहनापुर, कुण्डा प्रतापगढ़ , उ०प्र० 
छात्र:  प्राचीन इतिहास कला संस्कृति व पुरातत्व विभाग, कलास्नातक तृतीय वर्ष, इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय


Tag:


पुरातात्विक उत्खनन की 2 विधियां , उत्खनन के प्रकार , पुरातात्विक उत्खनन कितने प्रकार का होता है , पुरातात्विक उत्खनन कैसे किया जाता है , उत्खनन के 2 प्रकार कौन कौन से होते हैं , 2 methods of excavation , types of excavation in hindi , excavation types in hindi.

04 December 2021

Advance level rules of present indefinite tense | Use of simple present tense in hindi

Present indefinite tense advance rules -


Present Indefinite tense के पिछले लेखों में हमने Present indefinite tense rules of translation की बात की और साथ ही साथ Present indefinite tense 120+ sentences in hindi लेख में हमने 120+ sentences of simple present tense को जाना। आप इन articles को अवश्य पढ़ लें। और अगर आप Present indefinite tense Hindi to english translation सीखना चाहते हैं तो आप इन sentences की practice अवश्य करें। 

Advance level Present indefinite tense rules

Advance rules of present Indefinite tense :


इस article के अंतर्गत हम present Indefinite tense के Advance level के rules को जानेंगे जो आपकी प्रतियोगी परीक्षाओं SSC , BANK , CDS आदि exams के लिए Helpful होगा। क्योंकि हम जानते हैं कि Tense section से लगभग सभी परीक्षाओं में एक न एक प्रश्न आ ही जाता है। इसलिए हम अपने आने वाले articles में धीरे धीरे एक एक कर के सभी tense को अच्छे से समझेंगे। 

अतः आप इस article (लेख) को पूरा अंत तक अवश्य पढ़ें। 


Use of present indefinite tense in hindi 


Present indefinite tense के advance level के rules या advance Use को जानने के पहले हम इसके structure को समझ लेते हैं- 

Translation structure of Present Indefinite tense - 


Affirmative Sentences : Subject + Verb 1st (s/es) + Object + Other.


Negative Sentence : Subject + Do/Does + not + verb (1st) + object + other. 


Interrogative sentences : (i) Do/Does + Subject + verb (1st) + Object + other ?

(ii) Que. Word + Do/Does + Subject + verb (1st) + Object + other ?


Interrogative Negative Sentences : (i) Does/Do + Subject + Not + verb 1st + Object + other ?

(ii) Wh-word + Does/Do + Subject + Not + verb 1st + Object + other ? 


आईये अब Advance level rules of present indefinite tense  को समझने का प्रयास करते हैं – 

Present indefinite tense rules for competitive exams : 


Rule -1 : Habitual , Regular या Repeated action को Express (अभिव्यक्त) करने के लिए Present Indefinite tense का use (प्रयोग) किया जाता है – 


Example : 


1. Mohan gets up early in the morning.

2. I take tea at 7 A.M. 

3. Sohan and mohan live in mumbai . 

4. He goes his school daily. 

5. He loves his mom. 

6. He goes to meet his girlfriend. 

7. Mukesh sleeps at 10 P.M. 

8. We work eight hours a day. 

Rule -2 : Always , often , sometimes , generally , Usually , occasionally , rarely , seldom , never , hardly , scarcely , habitually , daily , everyday , everynight , every morning , every week , every month , every year , once a week , once a month , once a day , twice a day , twice a month , twice a week आदि शब्द Habitual , Regular या Repeated action को Express (अभिव्यक्त) करने वाले Words हैं इसलिए इनका प्रयोग present indefinite tense में किया जाता है। 


Examples :


1. He always comes here at night. 

2. He generally go to allahabad in morning. 

3. He never beat you. 

4. You often come here at night. 

5. My two kids fight with each other every evening. 

6. You come allahabad twice a week. 

7. He sometimes comes here at night. 


Rule -3 : Universal truth , Principles तथा Permanent घटनाओं के लिए भी Present indefinite tense का प्रयोग किया जाता है। 


Examples : 

1. The sun rises in the east.  [✔️] 

सूर्य पूरब में उगता है। 

    The sun is rising / has risen in the east.  [❌] 

2. The earth revolves around the sun. 

पृथ्वी सूर्य के चारो ओर चक्कर लगाती है। 

3. Monday comes after sunday. 

सोमवार रविवार के बाद आता है। 

4. Two and two makes four. 

दो और दो चार होते हैं। 

5. Water boils at 100℃ 

पानी 100℃ पर उबलता है। 


Rule -4 : Planned future action को व्यक्त करने के लिए भी Present indefinite tense का प्रयोग किया जाता है। 


Examples : 


1. Our P.M. Leaves india for USA on next Monday. 

हमारे प्रधानमंत्री अगले सोमवार को भारत से अमेरिका के लिए प्रस्थान करेंगे। 

2. He comes here tomorrow. 

वह कल यहां आएगा। 

3. They reach here next week. 

वह यहां अगले सप्ताह पहुँचेगा। 

4. My collage reopens in the month of December. 

मेरा कॉलेज दिसंबर में पुनः खुलेगा। 

5. I go to chennai next month. 

मैं अगले महीने चेन्नई जाऊंगा। 

Rule -5 : Irregular action को भी Express करने के लिए Present indefinite tense का प्रयोग होता है – 


Examples : 


1. Earthquakes come in Indonesia. 

इंडोनेशिया में भूकंप आते हैं। 

2. Tsunami come in seaside area. 

समुद्रतटीय क्षेत्रों में सुनामी आती है। 


इन sentences में हम देखते हैं कि Action irregular है। इंडोनेशिया में भूकंप आता है लेकिन Regular नहीं आता है। 


Rule -6 : Simple present tense का प्रयोग Possession (अधिकार) को व्यक्त करने के लिए किया जाता है। 


Examples : 


1. This pen belongs to John. 

यह पेन जॉन की है। 

2. This car does not belong to you. 

यह कार तुम्हारी है।

3. That baby belongs to Mr. Ramu. 

वह बच्चा रामू का है।

4. Mohan owns a huge building. 

मोहन के पास एक बहुत बड़ी इमारत है। 

Rule -7 : इस Tense का प्रयोग Mental activity (मानसिक क्रियाकलाप) , Emotions तथा Feelings को भी Express (अभिव्यक्त) करने के लिए भी होता है। 


Examples : 

1. I believe in God .  [✔️] 

    I'm believing in God. [❌] 

2. She understands my feelings. 

3. I trust you.

4. I love you so much. 


Note : See , Hear , think , notice , recognize , have , look , appear , seem , belong , want , wish , like , love , hate , think , suppose , agree , know , understand , imagine , mean , prefer , hope , smell , desire , feel , refuse , believe , consider , trust , remember , forget , mind आदि Verbs का प्रयोग mental activity को व्यक्त करने के लिए किया जाता है तथा इनका प्रयोग Simple present tense (Present indefinite tense) में होता है। 

Examples : 


1. I hear , thay are planning about you. 

2. I think, you are right. 

3. I think , I should go. 

4. I mean, this is not fair.

5. I hope, she is coming today.

6. I imagine what you are saying.

7. I suppose you as my parents. 


Rule -8 : Newspaper की Headlines में भी सामान्यतया Simple present tense का ही प्रयोग होता है साथ ही बता दें कि Headlines में Articles का प्रयोग कम से कम किया जाता है।


Examples : 

1. P.M. signs deal of Rafael. 

प्रधानमंत्री ने राफेल के सौदे पर हस्ताक्षर किए।

2. Rahul comments on kisan bill. 

राहुल ने किसान बिल पर टिप्पणी की। 

3. Virat hits another century. 

विराट ने एक और शतक लगाया। 

4. Biden wins the presidential election. 

बिडेन ने राष्ट्रपति चुनाव जीता। 

उपरोक्त sentences की hindi देखने पर लगता है कि यह past indefinite में है किन्तु newspaper की headlines में ये present indefinite tense में लिखना ही उचित है। 


Rule -9 : TV एवं Radio के Commentaries में भी ज्यादातर Present Indefinite tense का प्रयोग किया जाता है- 


Examples : 

1. Sachin tendulkar hits the ball and runs before carry. 

2. Ronaldo kicks the football and score a goal. 


Rule -10 : Here और There से शुरू होने वाले Exclamatory Sentences में भी Simple present tense का प्रयोग किया जाता है। 


Examples :

1. Here comes the train !

2. Here she lives !

3. There she plays !

4. There you come ! 

Rule -11 : जब main verb future में हो तो Conditional sentences में if, till , as soon as , when , unless , before , untill , even if , in case as के बाद Present indefinite tense का प्रयोग होता है। 

अर्थात main clause future tense में रहता है तथा Sub-ordinate clause present tense में रहता है। 


Examples : 

1. we shall wait till she arrives. 

हम उसके आने तक प्रतीक्षा करेंगे।

2. I shall not go there even if it rains. 

बारिश होने पर भी मैं वहाँ नहीं जाऊँगा।

3. Unless he works hard , he will not succeed. 

जब तक वह कड़ी मेहनत नहीं करेगा, सफल नहीं होगा। 

4. When she comes , I shall give him a gift. 

जब वह आएगी, तो मैं उसे गिफ्ट दूंगा। 


Rule -12 : Quotations या किसी के Statements को Simple present में लिखा जाता है। 

Examples : 

1. A philosopher says ,"Things don't change we change." 

2. Hokar says, "labour conquers all things."

3. My father says, "Birds fly and fish swim."

4. Shakespeare says, "The course of true love never runs smooth." 

5. Keats says, "A thing of beauty is a joy for ever." 


Related posts : must read 


धन्यवाद🙏 
आकाश प्रजापति
(कृष्णा) 
ग्राम व पोस्ट किलहनापुर, कुण्डा प्रतापगढ़ , उ०प्र० 
छात्र: इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय


Tags : 


Present Indefinite tense rules for SSC exams  , Present indefinite tense rules of translation , Advance rules of Present indefinite tense , Present indefinite tense rules for All competitive exams , Present indefinite tense advance level rules and exercise , exercise of Present indefinite tense. 


01 December 2021

Cough and cold | सर्दी जुकाम के 4 घरेलू उपाय | Best 4 Home remedies of Cough & Cold in hindi

 

बदलते मौसम में अक्सर जन सामान्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) कम हो जाती है लिहाजा वे लोग बदलते मौसम की मार के प्रभाव में आ जाते हैं। अधिकतर मौसम का असर जिन लोगों पर दिखता है उन्हें सर्दी-जुकाम  (Cough and cold) की समस्या झेलनी पड़ती है। 


सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय

सर्दी-जुकाम (Cough and cold) 


अगर आपको भी जल्द ही सर्दी जुकाम हो जाती है तो और आप भी थोड़े से ही मौसम के बदलाव से परेशान हो जाते हैं तो आपको इस पोस्ट को पूरा अंत तक पढ़ना चाहिए क्योंकि इस article के अंतर्गत हम सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय ( Home remedies of cough and cold ) के बारे में बताएंगे। क्योंकि अगर हम बार बार सर्दी जुकाम की चपेट में आ जा रहे हैं और हम हर बार अंग्रेजी दवाओं का सहारा लेंगे तो यह हमारे शरीर के आंतरिक अंगों पर बेहद नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। 

इसलिए हमें सर्दी जुकाम (Cough cold) होने पर प्राथमिक तौर पर सर्दी जुकाम के घरेलू नुस्खे की ओर जाना चाहिए। 

यहां सर्दी जुकाम के 4 बेहतरीन घरेलू उपचार बताए गए हैं जिन्हें आप आसानी से प्रयोग में ला सकते हैं। 


Cough and cold treatment in hindi : 


सर्दी जुकाम के कुछ आसान और असरदार घरेलू उपचार नीचे बताए गए हैं―

1. अदरक का सेवन करें : Ginger remedy of cough cold 


सर्दी जुकाम की समस्या में अदरक रामबाण औषधि है। यह प्रायः सभी Kitchens में होती है। इसमें एंटी- इन्फ्लैमेटरी (anti-inflammatory) गुण पर्याप्त मात्रा में विद्यमान होता है। सर्दी जुकाम की समस्या होने पर हम अदरक को कई तरह से प्रयोग में ला सकते हैं- 

थोड़ी सी कच्ची अदरक को चबा लेने से भी गले की खराश दूर हो जाती है और इससे जुकाम में भी राहत मिलती है। 

10 ग्राम अदरक को 2 कप पानी में कूटकर डाल दें और तब तक उबालें जब तक यह पानी 1 कप न बचे। जब यह एक कप बचे तो इसमें थोड़ी सी शहद मिलाकर चाय जैसे पियें। दिन में दो बार ऐसा करने से सर्दी जुकाम में जल्द ही राहत मिलती है। 

थोड़ी सी अदरक को कुचलकर उसका रस निकाल लें और उतनी मात्रा में ही निम्बू और शहद मिलाकर सेवन करने से सर्दी-जुकाम-खांसी से भी जल्द ही राहत मिलती है। 


इस प्रकार इनमें से किसी भी एक प्रकार से अदरक का सेवन करने से उपरोक्त लाभ तो होते ही हैं साथ ही हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता, जिसे सामान्यतः इम्युनिटी कहते हैं, भी मजबूत होती है। 


2. गुड़ का सेवन करें : 

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में गन की प्राप्ति आसानी से हो सकती है। गुड़ कई मायनों में हमारे शरीर के लिए लाभकारी होता है। गुड़ में सोडियम और पोटेशियम होता है साथ ही इसमें आयरन की मात्रा भी पर्याप्त होती है। वैज्ञानिक शोधों में यह पाया गया है कि गुड़ का सेवन मनुष्य स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। 

रात को सोते समय गुड़ खाकर सोने से खांसी के साथ साथ सर्दी जुकाम की समस्या से भी राहत मिलती है। इसके अलावा भी गुड़ खाने के अनेकों फायदे हैं। 


3. नमक पानी के प्रयोग से सर्दी-जुकाम में होती है राहत : 


1 glass पानी मे आधा चम्मच नमक डाल कर गरम कर लें। जितना गरम सहने योग्य हो उतना गरम थोड़ा सा नमक पानी पी लें और बाकी बचे हुए से गरारा कर लें। सर्दी जुकाम से परेशान व्यक्ति यह करके आसानी से अपनी समस्या को दूर कर सकता है। क्योंकि नमक में एन्टी-वायरस गुण होते हैं जोकि बहुत ही लाभकारी होता है। 


4. तुलसी की पत्तियों का सेवन : 

तुलसी एक बहुत ही गुणकारी औषधीय पौधा है। इसके गुण इसकी पत्तियों में होते हैं। इसके सेवन के अनेक फायदों में से एक फायदा यह भी है कि इससे सर्दी जुकाम में राहत मिलती है और इम्युनिटी भी increase होती है। 

तुलसी की 8-10 पत्तियों को और इसके साथ 2-3 काली मिर्च को 1 गिलास पानी में डालकर अच्छी तरह उबालकर काढ़ा बना लें और इसका सेवन करें। इसके 2-3 बार सेवन से आसानी से सर्दी जुकाम से छुटकारा पाया जा सकता है। 

तुलसी की कुछ पंक्तियों को पीसकर इसका रस निकाल लें और उसी मात्रा में शहद मिलाकर सेवन करने से उपरोक्त समस्या से आसानी से निजात पाया जा सकता है। यह उपाय खासकर बच्चों के लिए अपनाया जा सकता है। 


अगर आप भी सर्दी जुकाम की समस्या से परेशान हैं तो इन उपायों में से किसी एक को अवश्य अपनाएं आशा है आपको सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेंगे। 


अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे अपने मित्रों व संबंधियों के साथ अवश्य share करें। 

Related posts : अवश्य देखें 👇

● सर्दी जुकाम के 15 घरेलू उपाय


Disclaimer : इस आर्टिकल में बताए गए सभी उपायों के प्रमाणिकता का दावा हमारी यह वेबसाइट Gs Center नहीं करती है यह जानकारियां पारंपरिक मान्यताओं पर आधारित हैं। 


Tags : 


Cough and cold , cough cold , cough cold problem in hindi , treatment of cough and cold , cough and cold in hindi , सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय , सर्दी जुकाम के 4 बेहतरीन उपचार । 


29 November 2021

पाषाण काल : पुरापाषाण काल , मध्यपाषाण काल , नवपाषाण काल | Paleolithic age | Mesolithic age | Neolithic age

पाषाण युग (Stone age in hindi) : संक्षेप में पूर्ण जानकारी 


भू वैज्ञानिक दृष्टि से पृथ्वी लगभग 4.8 अरब वर्ष प्राचीन है। एवं इस पर जीवन का आरंभ 3.5 अरब वर्ष पूर्व हुआ। पृथ्वी की भूवैज्ञानिक समय सारणी को महाकल्पों में विभाजित किया जाता है , तथा प्रत्येक महाकल्प को अनेक कल्पों में तथा प्रत्येक कल्प को अनेक युगों में विभाजित किया जाता है। 


मानव, भू-वैज्ञानिक इतिहास के अंतिम महाकल्प नूतनजीव या Cenozoic महाकल्प के चतुर्थ चरण में रह रहा है। इसे क्वार्टनरी (Quartenary) कहा जाता है। इसके तहत तीन युग हैं ― 

ये तीन युग निम्न हैं : 


1. अति नूतन (Pliocene) : 1 करोड़ से 20 लाख वर्ष पूर्व तक

2. अत्यंत नूतन (Pleistocene) : 20 लाख वर्ष पूर्व तक

3. नूतनतम (Holocene) : 10,000 वर्ष पूर्व तक

◆ अत्यंत नूतन युग या Pleistocene युग में तीन बड़े-बड़े स्तनधारी परिवार का आविर्भाव हुआ। ये आधुनिक घोड़े, हाथी तथा मवेशियों के पूर्वज थे | इन पशु प्रारूपों को सामूहिक रूप से विलाफ्रांसीसी जंतु समूह कहा जाता है।


◆ लगभग 2 करोड़ वर्ष पूर्व महाकपि का एक समूह, जो 'रामपिथेकस' के नाम से जाना जाता था, वह दो समूहों में विभाजित हो गया।


◆ इसकी एक शाखा जंगलों में रह गई, परन्तु दूसरी शाखा ने खुले घास के मैदान में रहना पसंद किया। इसे ऑस्ट्रेलोपिथेकस के नाम से जाना जाने लगा। यह मानव का आदि पूर्वज था । 


◆ आगे चलकर इससे इरेक्टस , नियान्डरथेल , क्रोमैगनन - एवं अंत में 30 हजार वर्ष पूर्व आधुनिक मानव (होमोसेपियन) का विकास हुआ।


◆ भारत में आदि मानव के जीवाश्म प्राप्त नहीं होते हैं।


◆ भारत में मानव के प्राचीनतम अस्तित्व के संकेत पत्थर के औजारों से मिलते हैं जिनका काल लगभग 5 लाख ईसा से 2.5 लाख ईसा पूर्व निर्धारित किया गया है।


◆ किंतु हाल में बोरी नामक स्थान पर मानव की उपस्थिति लगभग 14 लाख वर्ष पूर्व निर्धारित की गई है।

भारतीय इतिहास का विभाजन : 


◆ अध्ययन की सुलभता के आधार पर इतिहास को विभिन्न कालों में बाँटा गया है ―


1. पूर्व-ऐतिहासिक काल : इतिहास का ऐसा काल जिसका कोई लिखित साक्ष्य प्राप्त न हुआ हो। 【प्रारम्भ से लगभग 3000 ई०पू०  तक】

2. आद्य-ऐतिहासिक काल : इतिहास का ऐसा कालखंड जिसके लिखित साक्ष्य तो उपलब्ध हों पर उन्हें पढ़ा न जा सका हो। 【लगभग 3000 ई०पू० से 600 ई०पू० तक】

3. ऐतिहासिक काल : इतिहास का वह काल जिसके लिखित साक्ष्य उपलब्ध भी हों और उन्हें पढ़ा भी जा सके।  【लगभग 600 ई० पू० के पश्चात का काल】 


पाषाण काल | Paleolithic age image

पूर्व ऐतिहासिक काल या प्रागैतिहासिक काल को तीन मुख्य चरणों में बाँटा गया है ― 


1. पुरापाषाण काल (Paleolithic age) : 5 लाख ईसा पूर्व से 10 हजार ईसा पूर्व तक का काल 

2. मध्यपाषाण काल (Mesolithic age) : 10 हजार से 6 हजार ईसा पूर्व तक

3. नवपाषाण काल (Neolithic age) : 6 हजार ईसा पूर्व के बाद का समय 


पुरापाषाण काल (Paleolithic age in hindi) : 


◆ भारत की पुरापाषाण युगीन सभ्यता का विकास प्लीस्टोसीन या हिम युग से हुआ।


◆ भारतीय पुरापाषाण काल को मानव द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पत्थर के औजारों के स्वरूप तथा जलवायु में होने वाले परिवर्तनों के आधार पर तीन अवस्थाओं में बाँटा जाता है ―

पुरापाषाण काल का विभाजन - 


1. आरंभिक या निम्न पुरापाषाण काल (Lower paleolithic age) : 5 लाख से 50,000 ईसा पूर्व तक 

2. मध्य पुरापाषाण काल (Middle paleolithic age) : 50 हजार से 40 हजार ईसा पूर्व तक

3. उच्च पुरापाषाण काल (Upper paleolithic age) : 40 हजार से 10 हजार ईसा पूर्व तक


विस्तार से पढ़ने के लिए यहां जाएं 👇 

● पाषाण काल 【पुरापाषाण काल, मध्यपाषाण काल, नवपाषाण काल】 


निम्न पुरा पाषाण काल : Lower Paleolithic period 


◆ इस काल का अधिकांश भाग प्लाइस्टोसीन या हिमयुग से गुजरा है। इस काल के महत्वपूर्ण उपकरण कुल्हाड़ी या हस्त कुठार (Hand Axe ), विदारिणी (Cleaver) एवं खंडक (Chopper) थे।


◆ 1863 में रॉबर्ट ब्रसफुट ने मद्रास के समीप पल्लवरम नामक स्थल से पहला हैंड एक्स या हाथ की कुल्हाड़ी प्राप्त की। उसी समय अत्तिरमपक्कम से भी ऐसी ही कुल्हाड़ी प्राप्त हुई। 

◆ इस युग में क्रोड उपकरणों की प्रधानता थी।


◆ निम्न पुरापाषाण स्थल भारतीय उपमहाद्वीप के लगभग सभी क्षेत्रों में प्राप्त होते हैं। इनमें असम की घाटी भी शामिल है।


◆ एक महत्वपूर्ण निम्न पुरापाषाण स्थल सोहन घाटी में मिलता है। यह सोहन संस्कृति के नाम से जाना जाता है। सोहन सिंधु की छोटी सहायक नदी है।


◆ सोहन घाटी के उपकरणों को आरंभिक सोहन, उत्तरकालीन सोहन, चौन्तरा तथा विकसित सोहन नाम दिया गया है।


◆ उत्तरकालीन सोहन के अंतर्गत चौन्तरा से प्राप्त उपकरणों में प्राक् सोहन के कुछ फलक, सोहन परम्परा के पेबुल तथा एवं मद्रास परंपरा के हैन्ड एक्स आदि मिलते हैं। ऐसा लगता है कि चौन्तरा उत्तर तथा दक्षिण परंपरा का मिलन स्थल था।


◆ इसके अलावा, नर्मदा घाटी के पास टी. नरसिंहपुर, भीमबेटका, महाराष्ट्र में नेवासा, राजस्थान में डीडवाना, गुजरात में साबरमती एवं माही घाटियाँ, उत्तर प्रदेश में बेलनघाटी, झारखण्ड में सिंहभूम तथा आन्ध्र प्रदेश के नेल्लोर व गिदलुर महत्वपूर्ण निम्न पुरापाषाण स्थल हैं।


◆ गंगा, यमुना एवं सिंधु के कछारी मैदानी में निम्नपुरापाषाण कालिक स्थल नहीं मिले हैं।


◆ इस काल के लोगों ने क्वार्टजाइट पत्थरों का प्रयोग किया था। 

◆ ये लोग शिकारी एवं खाद्य संग्राहक थे।

मध्य पुरापाषाण काल (Middle paleolithic period)


मध्य पुरापाषाण काल (middle paleolithic age) की महत्वपूर्ण विशेषता थी प्रयुक्त होने वाले कच्चे माल में परिवर्तन।


◆ इस काल में क्वार्टजाइट के साथ-साथ जेस्पर एवं चर्ट भी प्रमुख कच्चे माल के रूप में प्रयोग किया जाने लगा।


मध्य पुरापाषाण काल के स्थल प्रायः सम्पूर्ण देश से संबद्ध हैं। जैसे- महाराष्ट्र में नेवासा, झारखण्ड में सिंहभूम, उत्तर प्रदेश में चकिया, सिंगरौली बेसिन एवं बेलन घाटी, मध्य प्रदेश में भीमबेटका एवं सोन घाटी, गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र आदि।


◆ हालांकि उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में उतने स्थल प्राप्त नहीं होते हैं जितने प्रायद्वीपीय क्षेत्र में प्राप्त हुए हैं। इसका मुख्य कारण पंजाब में उपयुक्त कच्चे माल का अभाव माना जाता है।


◆ इस काल में कोर, फ्लेक तथा ब्लेड उपकरण प्राप्त हुए हैं। फलकों की अधिकता के कारण मध्य पुरापाषाण काल को फलक संस्कृति की संज्ञा दी गई है।

उच्च पुरापाषाण काल (Upper paleolithic period)


◆ उच्च पुरापाषाण कालीन अवस्था का विस्तार हिमयुग के उस अंतिम चरण के साथ रहा, जब जलवायु अपेक्षाकृत गर्म हो गई एवं नमी कम हो गई।


◆ इस काल में उपकरण बनाने की मुख्य सामग्री लंबे स्थूल फलक होते थे।


◆ इस काल के उपकरणों में तक्षणी एवं खुरचनी उपकरणों की प्रधानता बढ़ गई।


◆ इस काल में हड्डी के उपकरणों की भूमिका भी महत्वपूर्ण हो गई ।


◆ इस काल के महत्वपूर्ण स्थल सोन घाटी (मध्य प्रदेश), सिंहभूम (झारखण्ड), बाघोर, महाराष्ट्र के मध्य प्रदेश के जोगदहा, भीमबेटका, रामपुर बघेलान, बाघोर, पटणे, भदणे तथा इनामगाँव, आन्ध्र प्रदेश के रेनीगुंटा, वेमुला, कुर्नूल गुफाएँ, कर्नाटक का शोरापुर दोआब तथा राजस्थान का बूढ़ा पुष्कर आदि हैं।


◆ साथ ही इस काल में नक्काशी और चित्रकारी दोनों रूपों में कला का विकास हुआ। बेलन घाटी स्थित लोहदानाला से प्राप्त अस्थि निर्मित मातृदेवी की मूर्ति इसी काल की है। 

◆ विंध्य क्षेत्र में स्थित भीमबेटका में विभिन्न कालों की चित्रकारी देखने को मिलती है। 


सभ्यता के इस आदिम युग में मानव अग्नि, कृषि कार्य एवं पशुपालन से परिचित नहीं था एवं न ही बर्तनों का निर्माण करना जानता था।


◆ इस काल का मानव खाद्य पदार्थों का उपभोक्ता ही था, उत्पादक नहीं।


◆ दो कारणों से इस काल का विशेष महत्व है पहला, इस काल में होमोसेपियन का विकास तथा दूसरा, इस काल में उपयोग में लाए जाने वाले उपकरण चकमक के बने थे जोकि एक प्रकार का पत्थर था। 


मध्य पाषाण काल (Mesolithic age in hindi)


◆ मध्य पाषाण काल की जानकारी सर्वप्रथम 1867 में सी. एल. कार्लाइल द्वारा विंध्य क्षेत्र में लघु पाषाण उपकरण खोजने के साथ हुई।


◆ दरअसल, मध्य पाषाण काल, पुरापाषाण काल एवं नवपाषाण काल के मध्य संक्रमण को रेखांकित करता है।

◆ इस काल में भी मनुष्य मुख्यतः खाद्य संग्राहक ही रहा, परंतु शिकार करने की तकनीक में परिवर्तन आ गया। अब वह बड़े जानवरों के साथ-साथ छोटे-छोटे जानवरों का भी शिकार करने लगा था। 


◆ पशुपालन का प्रारंभिक साक्ष्य भी इसी काल में मिलता है। मध्य प्रदेश के आदमगढ़ एवं राजस्थान के बागौर में पशुपालन के प्राचीनतम साक्ष्य मिलते हैं। सर्वप्रथम कुत्ते को पालतू पशु बनाया गया था।


प्रक्षेपास्त्र तकनीक के विकास का प्रयास इस काल का महत्वपूर्ण परिवर्तन था। इसी काल में सर्वप्रथम तीर-कमान का विकास हुआ।


◆ इस काल के उपकरण अत्यंत छोटे होते थे। इसलिए इन्हें माइक्रोलिथ कहा गया।


◆ इस काल के प्रमुख स्थल हैं पश्चिमी बंगाल में वीरभानपुर, गुजरात में लंघनाज, तमिलनाडु में टेरी समूह, मध्यप्रदेश में आदमगढ़, राजस्थान में बागौर, गंगा घाटी में सराय नाहरराय एवं महदहा आदि हैं।


◆ सराय नाहरराय एवं महदहा से इस काल के मानव अस्थिपंजर का पहला अवशेष प्राप्त हुआ है।


◆ मानवीय आक्रमण या युद्ध का प्रारंभिक साक्ष्य सराय नाहरराय से प्राप्त हुआ।


◆ बागौर से इस काल के पाषाण उपकरणों के साथ-साथ मानव कंकाल भी मिलता है।


लंघनाज से लघुपाषाण उपकरण के साथ-साथ पशुओं की हड्डियाँ, कब्रिस्तान तथा कुछ मिट्टी के बर्तन भी प्राप्त हुए हैं।

अग्नि का उपयोग मध्य पाषाण काल को पुरापाषाण काल से अलग करता है। लंघनाज तथा सराह नाहरराय व महदहा से गर्त चूल्हे का साक्ष्य प्राप्त हुआ है।


शवाधान का तरीका इस काल की विशिष्ट पहचान है क्योंकि पुरापाषाण काल में इसका साक्ष्य प्राप्त नहीं होता।


◆ लेखहिया से 17 नर कंकाल मिले हैं जिनमें से अधिकांश का सिर पश्चिम दिशा में है। महदहा के किसी न किसी समाधि में स्त्री-1 -पुरुष दफनाये जाने का साक्ष्य मिलता है। के साथ-साथ


◆ राजस्थान में स्थित सांभर झील निक्षेप के कई मध्यपाषाणिक स्थल प्राप्त हुए हैं। इनमें नरवा, गोविंदगढ़ तथा लैखवा प्रमुख हैं। यहाँ से विश्व के सबसे पुराने वृक्षारोपण के साक्ष्य मिले हैं। 


नव पाषाण काल (Neolithic age)


◆ नवपाषाण काल (Neolithic age) का आधारभूत तत्व है खाद्य उत्पादन तथा पशुओं को पालतू बनाये जाने की जानकारी का विकास।


◆ 'नियोलिथिक' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग सर जॉन लुबाक ने 1865 ई. में किया था।


◆ नवपाषाणकाल की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं

• कृषि कार्य का प्रारंभ

• पशुपालन का विकास

• पत्थर के घर्षित एवं पॉलिशदार उपकरणों का निर्माण

• ग्राम समुदाय का प्रारंभ


◆ भारतीय उपमहाद्वीप में प्राचीनतम नवपाषाणिक बस्ती मेहरगढ़, जोकि पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है, से कृषि का प्रारंभिक साक्ष्य मिलता है। यह लगभग 7000 ई. पू. पुराना है।


◆ इस काल के प्रमुख स्थल हैं- बेलन घाटी (उत्तर प्रदेश), रेनीगुंटा ( आन्ध्र प्रदेश), सोन घाटी (मध्य प्रदेश), सिंहभूम (झारखण्ड), बुर्जहोम एवं गुफ्फकराल (कश्मीर) आदि।


बुर्जहोम एवं गुफ्फकराल से अनेक गर्तवास, मृदभांड एवं पत्थर व हड्डियों के औजार प्राप्त हुए हैं।


◆बेलन घाटी में कोल्डिहवा से वन्य एवं कृषि जन्य दोनों प्रकार के चावल के साक्ष्य मिलते हैं। यह धान की खेती का प्राचीनतम साक्ष्य है। इनकी कालावधि 6000 ई. पू. से 5000 ई. पू. निर्धारित की गई है।


◆ हाल ही में हुए शोध से उत्तर प्रदेश के लहुरादेव में सबसे पुराने चावल के साक्ष्य मिले हैं।


चोपानीमांडो से मृदभाण्ड के प्रयोग के प्राचीनतम साक्ष्य मिले हैं।


◆ चोपानीमांडो से 3 किमी दूर स्थित महागरा से सबसे महत्वपूर्ण संरचना गौशाला के रूप में प्राप्त हुई है।


◆ इसके अलावा, मध्य गंगा घाटी के अन्य नवपाषाण कालीन स्थल चिरांद, चैचर, सेनुआर, ताराडीह आदि हैं।

◆ इसी तरह पूर्वी भारत में असम, मेघालय की गारो पहाड़ी तथा दक्षिण भारत में कर्नाटक के मास्की, ब्रह्मगिरी, हल्लूर, कोडक्कल, पिकलीहल, संगनकलन, टेक्कलकोट्टा तथा तमिलनाडु के पोचमपल्ली एवं आन्ध्र प्रदेश के उत्तनूर आदि प्रमुख नवपाषाणिक स्थल हैं।


◆ दक्षिण भारत में पहली फसल के रूप में रागी को उगाया गया।


इस प्रकार हम देखते हैं कि मानव का विकास लाखों वर्षों का परिणाम है। यह विकास एक आदिरूपी बंदर की श्रेणी के मानव रामपिथेकस से लेकर होमोसेपियंस से होते हुए आज तक के मानव का विकास है। भारतीय इतिहास के प्रारंभ को आज हमने इस लेख के अंतर्गत समझने का प्रयास किया तथा विभिन्न कालों में मानव के क्रियाकलापों को भी जानने का प्रयास किया। 


इन्हें भी पढ़ें 👇 

● भारत के नामकरण का इतिहास

● पाषाण काल 【पुरापाषाण काल, मध्यपाषाण काल, नवपाषाण काल】 

● प्राचीन भारतीय इतिहास के ऐतिहासिक स्रोत (साहित्यिक स्रोत)

● प्राचीन भारतीय इतिहास के ऐतिहासिक स्रोत (विदेशी विवरण)

● प्राचीन भारतीय इतिहास के ऐतिहासिक स्रोत (पुरातात्विक स्रोत)

● प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रोत (संक्षेप में पूर्ण जानकारी)

● हड़प्पा सभ्यता (एक दृष्टि में सम्पूर्ण)


आशा है यह जानकारी आपको अच्छी लगी। अगर आपको यह जानकारियां उपयोगी लगी हों तो इसे अपने मित्रों के साथ share अवश्य करें। 


धन्यवाद🙏 
आकाश प्रजापति
(कृष्णा) 
ग्राम व पोस्ट किलहनापुर, कुण्डा प्रतापगढ़ , उ०प्र० 
छात्र:  प्राचीन इतिहास कला संस्कृति व पुरातत्व विभाग, कलास्नातक तृतीय वर्ष, इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय 

close